कबीरदास

From WikiEducator

Jump to:navigation, search
style="width: 60%; background-color: #CCFFCC ; border: 1px solid #777777; vertical-align: top; -moz-border-radius-topleft: 8px; -moz-border-radius-bottomleft: 8px; -moz-border-radius-topright: 8px; -moz-border-radius-bottomright: 8px;" rowspan="

मेरा मूल पृष्ठ(back)


कबीरदास---
( जन्म-काशी -१३९८ ई॰ -- निधन- मगहर - १५१८ ई॰ -आयु-१२० वर्ष) कबीर के गुरु रामानन्द थे। काशी की एक ब्राह्मण स्त्री उनको जन्म के समय लहरतारा तालाब के पास छोड़ गई थी । उसके बाद कबीर का पालन-पोषण नीरू जुलाहा और उसकी पत्नी नीमा ने किया । कबीर‍ की जाति जुलाहा "थी। " जाति जुलाहा नाम कबीरा "। कबीर की पत्नी का नाम लोई ,पुत्र का नाम कमाल , पुत्री का नाम कमाली था। वे अनपढ़ थे। जो उन्होंने बोला वो उनके शिष्यों ने लिख दिया। इनके मूल ग्रंथ का नाम बीजक है। बीजक के तीन भाग हैं-रमैनी,सबद,साखि | इनकी रचनाएं कबीर ग्रथांवली में मिलती हैं। कबीर के काव्य के मुख्य विषय हैं -समाज-सुधार, निर्गुणोपासना, गुरु-महिमा, नीति-उपदेश, भक्ति आदि। इनकी भाषा सधुक्कडी़ ,खिचडी़ हैं। इसमें अरबी,फारसी,राजस्थानी,पंजाबी,ब्रज भाषाओं के शब्द मिलते हैं।

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर । कर का मन का डार दें, मन का मनका फेर ॥ गुरु गोविन्द दोनों खड़े, काके लागूं पाँय । बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो बताय ॥ जाति न पूछो साधु की, पूछि लीजिए ज्ञान । मोल करो तलवार का, पड़ा रहन दो म्यान ॥ काल करे सो आज कर, आज करे सो अब । पल में प्रलय होएगी, बहुरि करेगा कब ॥ दुर्बल को न सताइए, जाकि मोटी हाय । बिना जीव की हाय से, लोहा भस्म हो जाय ॥ऐसी वाणी बोलेए, मन का आपा खोय । औरन को शीतल करे, आपहु शीतल होय ॥ साधु ऐसा चहिए ,जैसा सूप सुभाय । सार-सार को गहि रहे, थोथ देइ उड़ाय ॥कस्तूरी कुन्डल बसे, म्रग ढ़ूंढ़े बन माहिं । ऐसे घट-घट राम है, दुनिया देखे नाहिं ॥ पोथी पढ़-पढ़ जग मुआ, पंडित भया न कोय । ढ़ाई आखर प्रेम का, पढ़ै सो पंड़ित होय ॥ पानी केरा बुदबुदा, अस मानस की जात । देखत ही छिप जाएगा, ज्यों सारा परभात ॥ पाहन पूजे हरि मिलें, तो मैं पूजौं पहार । याते ये चक्की भली, पीस खाय संसार ॥दुख में सुमरिन सब करे, सुख मे करे न कोय । जो सुख मे सुमरिन करे, दुख काहे को होय ॥ भक्ति भक्ति सब कोइ कहै, भक्ति न जाने मेव । पूरण भक्ति जब मिलै, कृपा करे गुरुदेव

LINKS

  1. My user page-मेरा मूल पृष्ठ,
  2. List of Hindi topics-विषय सूची ,
  3. List of Hindi topics with क विषय सूची-क
Navigation
Community
Create a book
Toolbox